Tool Bar

जाने….फेसबुक कैसे ट्रैक करता है कि आपने क्या सर्च किया

फेसबुक आपके डेटा को ट्रैक करता है और उसे जमा करता है। फेसबुक को न सिर्फ यह पता है कि आपके दोस्त कौन है, आप कहां ठहरे हैं, बल्कि उसे यह भी पता है कि आप किन चीजों को पसंद करते हैं और किस तरह की लाइफ स्टाइल जीते हैं। सरल शब्दों में कहें, तो इंटरनेट पर आपके द्वारा किए जाने वाले सभी चीजों के बारे में फेसबुक जानता है।
वहीं, यूजर की गतिविधियों को चुपचाप देखने के लिए फेसबुक उनके वेबकैम और स्मार्टफोन कैमरे का इस्तेमाल करना चाहता है। इस बारे में उसने पेटेंट लिया है। इसका मकसद यह है कि किसी कॉन्टेंट को पढ़ते वक्त यूजर कैसी प्रतिक्रिया दे रहा है, इसका पता लगाया जाए। यदि किसी कॉन्टेंट को पढ़कर यूजर खुश हो रहा है, तो उसे उसी तरह का कॉन्टेंट दिया जाएगा, जिससे वह साइट पर अधिक समय तक रुके।
आप सोच रहे होंगे कि इससे क्या फर्क पड़ता है। यह डिजिटल लाइफ का एक छोटा सा साइड-इफेक्ट है। मगर, बात कहीं इससे आगे की है। बीते कुछ समय से फेसबुक की पावर के बारे में समझा गया, तो पता चला कि यह अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को भी प्रभावित करने में सक्षम है। आप किसी फोन, गैजेट या कारके बारे में सर्च करते हैं, तो उससे जुड़े विज्ञापन यह आपकी वॉल पर दिखाता है। अगर, आप भी इससे परेशान हैं, तो इन ट्रिक्स को अपनाकर फेसबुक को अपना डेटा एकत्र करने से रोक सकते हैं।
आप जिन भी वेबसाइट्स पर विजिट करते हैं, वहां फेसबुक की ‘लाइक’ और ‘शेयर’ बटन होती हैं। वे आपके डिजिटल फुटप्रिंट को ट्रैक करने के लिए वहां होती हैं। इसके अलावा कई ऑनलाइन कंपनियां डिजिटल एडवर्टाइजिंग एलायंस नाम के एड नेटवर्क की सदस्य हैं। ये आपके ब्राउजर पर “कुकीज” नाम का एक छोटा सा कोड लगाती हैं। जब आप एलाइंस की सदस्य साइटों में से किसी एक पर जाते हैं, तो साइट कुकी को पहचानती है और विज्ञापन नेटवर्क पर जानकारी प्रदान करती है। इसी तरह आप जिस कार, मोबाइल या गैजेट का विज्ञापन देख रहे हैं वह वेब पर हर जगह दिखने लगता है।
यदि आप इससे बचना चाहते हैं, तो आप फेसबुक विज्ञापन सेटिंग्स पर जाएं और ‘एड्स बेस्ड ऑन योर यूज ऑफ वेबसाइट्स एंड ऐप्स’ को बंद करें। हालांकि, यह काम आसानी से खत्म नहीं हुआ है। इसके बाद आपको डिजिटल विज्ञापन एलायंस साइट पर जाना है, जो एड नेटवर्क है। होम पेज में आप एलायंस में शामिल कंपनियों की सूची के साथ एक टैब कर सकते हैं या आप नीचे स्क्रॉल करके फेसबुक को टैब करके ऑप्ट आउट का ऑप्शन चुन सकते हैं।
अपने एंड्रॉइड फोन में आप पहले सेटिंग्स पर जाकर एड ट्रैकिंग बंद कर सकते हैं। इसके बाद सेटिंग्स में गूगल खोलें या गूगल सेटिंग में एड्स एंड चेक ऑफ ‘ऑप्ट आउट ऑफ इंट्रेस्ट बेस्ड ऐड्स’ पर लगे टिक को हटाएं। आईफोन में अगर आप आईओएस का लेटेस्ट वर्जन चला रहे हैं, तो तो प्राइवेसी सेटिंग्स में जाएं। इसके बाद ‘एडवर्टाइजिंग’ को सर्च करने के लिए नीचे जाएं। ‘एडवर्टाइजिंग’ में आप “लिमिट एड ट्रैकिंग” को शुरू कर सकते हैं।
जाने….फेसबुक कैसे ट्रैक करता है कि आपने क्या सर्च किया जाने….फेसबुक कैसे ट्रैक करता है कि आपने क्या सर्च किया Reviewed by UcNews ooo on 12:27 AM Rating: 5
Post a Comment

Travel everywhere!